यातायात नियम : बाल कहानी

राम एक बहुत ही शरारती लड़का था. उसे अपने मित्रों को तंग करने में बड़ा मजा आता था. उसके बुरे व्यवहार के कारण सभी छात्र उससे बचा करते थे. उसको श्याम को परेशान करने में विशेष आनंद मिलता था. श्याम उसकी कक्षा में पढ़ता था और उसका पड़ोसी भी था.

श्याम और राम हर दिन स्कूल से आते जाते थे. श्याम छोटा और पतला था और राम की बराबरी नहीं कर सकता था. वह चुपचाप यह सब सहता था. श्याम स्वभाव से दयालु था.

एक दिन सुबह स्कूल जाने के समय शाम तब तक इंतजार करता रहा जब तक राम स्कूल के लिए उसके घर से आगे नहीं निकल गया. वह जानबूझकर राम के साथ चलने से बचना चाहता था. राम की बदमाशी से बचने के लिए वह उसके साथ नहीं जाना चाहता था.

राम आमतौर पर सड़क पर शरारत करते हुए चलता था. वह डिब्बों पर लात मारता, आवारा कुत्तों पर पत्थर फेंकता, स्कूल के बच्चों पर चिल्लाता था. वह हमेशा अपनी धुन में ही रहता हो दूसरों की परवाह नहीं करता था. वह स्कूल जाते समय या वापस आते समय सड़क की यातायात और यातायात नियम पर कभी ध्यान नहीं देता था.

श्याम चुपचाप यातायात नियम के अनुसार फुटपाथ पर सावधानी से चल रहा था उसने देखा कि एक कार दूसरी दिशा से तेज रफ्तार से आ रही थी और खतरे से बेखबर राम फूटपाथ से उतरकर सड़क पार कर रहा था. श्याम ने तेज दौड़ते हुए सड़क से राम को फुटपाथ पर धकेल दिया इससे राम को मामूली चोट लगी पर श्याम फुटपाथ से टकराकर बुरी तरह घायल हो गया.

राम को यह एहसास हुआ कि वह श्याम की वजह से ही बच पाया है नहीं तो यकीनन बहुत तेज रफ्तार से आ रही कार से टकराकर मर सकता था. राम ने श्याम को नजदीकी अस्पताल तक पहुंचाया जहां उसका बेहतर इलाज हुआ. उस दिन से श्याम की बहादुरी और अच्छाई देखकर राम पुरी तरह बदल गया. उसे अपने किए पर पछतावा हो रहा था और उसने फैसला किया कि वह भी दयालु और सुरक्षा पर ध्यान देने वाला छात्र बनेगा.

वह घायल शाम को रोजाना मिलता रहा और दोनों में बहुत गहरी दोस्ती हो गई. दोनों स्कूल द्वारा आयोजित यातायात नियम और सड़क सुरक्षा कार्यक्रमों के चैंपियन बने दोनों ने मिलकर इस संदेश का प्रसार किया कि जब सड़क पर हो तो हमेशा चौकन्ने रहे और किसी भी दुर्घटना से पीड़ित को तुरंत मदद के लिए तैयार रहें.

Bhati Neemla

हेल्लो दोस्तों! 'हिंदी में स्टोरी' पर आपका स्वागत है. मेरा नाम BS भाटी नीमला है. यह ब्लॉग उन पाठको के लिए बनाया गया है जो हिंदी कहानियों में रूचि रखते है. कृपया अपने बच्चो को ये कहानिया पढने को जरूर दे ताकि उनमे एक सकारात्मक परिवर्तन हो सके.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!