गधे की हिम्मत : पंचतंत्र की कहानी

गधे की हिम्मत: बहुत समय पहले की बात है. किसी गाँव में एक किसान रहता था. उसके पास बहुत सारे जानवर थे, उन्ही में से एक गधा भी था. एक दिन वह चरते-चरते खेत में बने एक पुराने सूखे हुए कुएं के पास जा पहुचा और अचानक ही उसमे फिसल कर गिर गया. गिरते ही उसने जोर-जोर से चिल्लाना शुरू किया- “ढेंचू-ढेंचू ….ढेंचू-ढेंचू…”

उसकी आवाज़ सुन कर खेत में काम कर रहे लोग कुएं के पास पहुचे, किसान को भी बुलाया गया.
किसान ने स्थिति का जायजा लिया, उसे गधे पर दया तो आई लेकिन उसने मन में सोचा कि इस बूढ़े गधे को बचाने से कोई लाभ नहीं है और इसमें मेहनत भी बहुत लगेगी और साथ ही कुएं की भी कोई ज़रुरत नहीं है, फिर उसने बाकी लोगों से कहा,

“मुझे नहीं लगता कि हम किसी भी तरह इस गधे को बचा सकते हैं अतः आप सभी अपने-अपने काम पर लग जाइए, यहाँ समय गंवाने से कोई लाभ नहीं.

” और ऐसा कह कर वह आगे बढ़ने को ही था कि एक मजदूर बोला,

“मालिक, इस गधे ने सालों तक आपकी सेवा की है, इसे इस तरह तड़प-तड़प के मरने देने से अच्छा होगा कि हम उसे इसी कुएं में दफना दें.”

किसान ने भी सहमती जताते हुए उसकी हाँ में हाँ मिला दी.
“चलो हम सब मिल कर इस कुएं में मिट्टी डालना शुरू करते हैं और गधे को यहीं दफना देते हैं”, किसान बोला.

गधा ये सब सुन रहा था. अब वह और भी डर गया, उसे लगा कि कहाँ उसके मालिक को उसे बचाना चाहिए उलटे वो लोग उसे दफनाने की योजना बना रहे हैं. यह सब सुन कर वह भयभीत हो गया पर उसने हिम्मत नहीं हारी और भगवान को याद कर वहां से निकलने के बारे में सोचने लगा. अभी वह अपने विचारों में खोया ही था कि अचानक उसके ऊपर मिट्टी की बारिश होने लगी. गधे ने मन ही मन सोचा कि भले कुछ भी हो जाए वह अपना प्रयास नहीं छोड़ेगा और आसानी से हार नहीं मानेगा. फिर वह पूरी ताकत से उछाल मारने लगा.

किसान ने भी औरों की तरह मिट्टी से भरी एक बोरी कुएं में झोंक दी और उसमे झाँकने लगा. उसने देखा की जैसे ही मिट्टी गधे के ऊपर पड़ती वो उसे अपने शरीर से झटकता और उछल कर उसके ऊपर चढ़ जाता. जब भी उसपे मिट्टी डाली जाती वह यही करता…. झटकता और ऊपर चढ़ जाता …. झटकता और ऊपर चढ़ जाता.

किसान भी समझ चुका था कि अगर वह यूँही मिट्टी डलवाता रहा तो गधे की जान बच सकती है.
फिर क्या था वह मिट्टी डलवाता गया और देखते-देखते गधा कुएं के मुहाने तक पहुँच गया और अंत में कूद कर बाहर आ गया.

शिक्षा : हमारी ज़िन्दगी भी इसी तरह होती है, हम चाहे जितनी भी सावधानी बरतें कभी न कभी मुसीबत रुपी गड्ढे में गिर ही जाते हैं. पर गिरना प्रमुख नहीं है, प्रमुख है संभलना. बहुत से लोग बिना प्रयास किये ही हार मान लेते हैं, पर जो प्रयास करते हैं भगवान भी किसी न किसी रूप में उनके लिए मदद भेज देता है. यदि गधा लगातार बचने का प्रयास नहीं करता तो किसान के दिमाग में भी यह बात नहीं आती को उसे बचाया जा सकता है. इसलिए जब अगली बार आप किसी मुसीबत में पड़ें तो कोशिश करिए कि आप भी उसे झटक कर आगे बढ़ जाएं.

Bhati Neemla

हेल्लो दोस्तों! 'हिंदी में स्टोरी' पर आपका स्वागत है. मेरा नाम BS भाटी नीमला है. यह ब्लॉग उन पाठको के लिए बनाया गया है जो हिंदी कहानियों में रूचि रखते है. कृपया अपने बच्चो को ये कहानिया पढने को जरूर दे ताकि उनमे एक सकारात्मक परिवर्तन हो सके.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Create Account



Log In Your Account



error: Content is protected !!